Kisi Ko Apne Vash Me Karne Ka Tarika किसी को अपने वश में करने का तरीका

किसी को मानसिक रूप से इस तरह अपने अधीन कर लेना की , वह दास या दासी के तरह , बिना विरोध किये मनचाहा काम कर देने के लिए बाध्य हो जाये .. ऐसे तांत्रिक कर्मा को ही वशीकरण कहा जाता है . मेरे इस वशीकरण तंत्र के बल पर पति या प्रेमी को वष में किया जा सकता है . या फिर , कोई प्रेमी अपनी माशूका को वष में करकर उस से विवाह कर सकता है . या कोई लड़की इसका प्रयोग अपने प्रेमी पर करके उसको विवाह कर लेने के लिए बाध्य कर सकती है .

किसी पत्नी का पति … कहा हुआ बात नहीं मानता या फिर उसके कदम बहक रहे हो तो , इस तंत्र के बल पर उसको अपने आधीन बना कर , अपने मन के अनुसार काम करने के लिए बाध्य कर सकती है .

इस तंत्र में सफलता पाने के लिए सर्वप्रथम किसी शुक्र वार की रात्रि में करीब दस बजे सुद्धा वस्त्र पहन कर , मात्र एक अगरबत्ती जलाकर , किसी भी प्रकार के आसान पर बैठ जाये .. फिर अपने दायें हाथ की अंजुली में JAL लेकर बोले – “MAI ( APNA NAAM ) .. AMUK ( USKA NAAM) ।खो आजीवन अपने वष में करने के लिए यह वशीकरण व्रत कर रहा हूँ या कर रही हूँ .” – ऐसा बोलकर अंजुली की जल भूमि पर गिरा दें .
इसके बड़ा अगले शुक्रवार तक , क्षौर कर्मा नहीं करने चाहिए . इन दिनों दूसरे घर कुछ भी खाना -पीना बंद रहेगा . काम से काम बातचीत करें . इस तंत्र की सफलता तभी होती है , जब जिसको वष में करना हो , उस से बातचीत होती हो और उसके साथ खाना -पीना होता हो .
अगले शुक्रवार को इस तंत्र को मूर्त रूप देने के लिए क्रिया आरम्भ की जाती है . इसके लिए “पांच विकार ” को सिद्ध सामग्री में मिलायी जाती है . वशीकरण की सिद्ध सामग्री अपने आप में अद्वितीय प्रभाव देने वाली होती है . सामग्री सिद्ध करने के लिए , अलग से सिद्धि करनी पड़ती है , जो की , काफी श्रमसाध्य और उबाऊ और खर्चीली होती है . इस कार्य को हर व्यक्ति कर ही ले संभव नहीं हो पता है . अतः मई अपने नजदीकी व्यक्तियों ” सिद्ध सामग्री ” देता हूँ और किस प्रकार पांच विकार मिलकर , वशीकरण का प्रभाव उत्पन्न किया जाता है .. समझा देता हूँ . प्रायः देखने में आया है की , इसका प्रभाव तुरंत या 24 घंटे के अंदर मिलने शुरू हो जाता है . पर , किसी किसी केस में , एक बार के बजाय दो चार बार इस क्रय को करना पड़ता है . इसलिए सिद्ध सामग्री की कुछ मात्र बचा कर रख लेनी छह इये . वैसे प्रायः , परिणाम जल्द ही मिल जाता है . वैसे परिणाम मिल भी जाने के बाद 3 बार या 5 बार क्रिया को दुहरा देने वशीकरण का प्रभाव और भी ज्यादा गहरा और अकाट्य सा हो जाता है. वशीकरण सिद्ध सामग्री प्रेमी और प्रेमिका या पति और पत्नी के नाम से ही सिद्ध किया जाता है . यह एक सफल और सुसिद्ध विधि है . अतः इसकी सिद्धि विधान की जानकारी हर किसी को नहीं दिया जा सकता है ; क्योंकि , इस घोर कलियुग में कल्याण की भावना क़म ही पायी जा रही .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *